जानिए, क्या होता है स्टेनोग्राफी, कैसे है इसके जॉब प्रोफाइल और स्किल टेस्ट

स्टेनोग्राफी(आशुलेखन) क्या है?

स्टेनोग्राफी, संकेत या कोड में वोकल या शब्दों को रिकॉर्ड करने की क्रिया है जिसे कोर्ट रूम और सरकारी कार्यालयों में एक आम मेथड के रूप में उपयोग किया जाता है। आशुलिपि भाषा लिखने की प्रक्रिया को स्टेनोग्राफी के रूप में जाना जाता है। इस कला को आगे बढ़ाने और इसे कागज़ पर उतारने के लिए आपको स्टेनोग्राफी के बारे में पता होनी चाहिए। आशुलिपि में, आपकी गति बहुत मायने रखती है और इस कोड वाले भाषा को सीखने के योग्य होना चाहिए। आप उपलब्ध विभिन्न कोर्स द्वारा स्टेनोग्राफी सीख सकते हैं। कुछ पदों के लिए स्टेनोग्राफी में डिप्लोमा या सर्टिफिकेट होना अनिवार्य है। आशुलिपिकों के लिए होने वाली प्रमुख परीक्षाओं में से एक विभिन्न सरकारी विभागों के लिए SSC ग्रेड C और D आशुलिपिक परीक्षा है।

[READ]RRB NTPC Station Master Salary, Job Profile And Career Growth

स्टेनोग्राफर(Stenographer) कौन होते है?

स्टेनोग्राफर वह व्यक्ति होता है जो अधिकारी द्वारा कहे गए शब्दों को अनुलेखन करता है और इसे कंप्यूटर या स्टेनो मशीन पर टाइप करता है। आशुलिपिक(stenographer) को स्टेनोग्राफर के रूप में काम करने के लिए लाइसेंस प्राप्त करना होगा या सर्टिफिकेट कोर्स करना होगा और इसकी परीक्षा उत्तीर्ण करनी होगी। वह प्रत्येक शब्द और वर्ण के लिए एक सांकेतिक भाषा या विशेष कोड का उपयोग करता है जिसे केवल आशुलिपिक(stenographer) समझता है। इन संकेतों को स्ट्रोक कहा जाता है। इस पद पर काम करना एक आशुलिपिक के लिए एक गरिमापूर्ण और चुनौतीपूर्ण कार्य हो सकता है क्योंकि उसे कार्यालय के सभी गोपनीय कामों का रिकॉर्ड रखना होता है।

Check SSC CGL Post Wise in-hand salary

आशुलिपिक(Stenographer) की जॉब प्रोफाइल:

एक स्टेनोग्राफर द्वारा किया गया कार्य कार्यालय में एक सहायक के समान है जो सभी महत्वपूर्ण कागजी कार्रवाई का प्रभार लेता है। एक आशुलिपिक की नौकरी प्रोफ़ाइल में दैनिक आधार पर निम्नलिखित कार्य होते हैं:

  • आशुलिपि लेखन(Shorthand Writing): अधिकारियों से डिक्टेशन लेनाऔर शॉर्टहैंड लेखन में नोट करना
  • ट्रांसक्रिप्शन(Transcription): उनके द्वारा लिए गए नोटों को कंप्यूटर पर टाइप करके पढ़ने योग्य बनाना
  • अधिकारी की सहायता करना: फोन कॉल, फिक्सिंग अपॉइंटमेंट, बुकिंग द्वारा पोस्टेड ऑफिसर की सहायता करना
  • रिकॉर्ड रखना: उन्हें बैठकों, महत्वपूर्ण फाइलों और महत्वपूर्ण दस्तावेजों के विवरण वाली एक डायरी को रखने की आवश्यकता होती है।
  • भाषण लेखन: मंत्री/अधिकारी द्वारा प्रेस कॉन्फ्रेंस या भाषण में दिए गए सम्मेलनों के डिटेल को नोट करना

[READ] How to become an Income tax officer?

SSC स्टेनोग्राफर स्किल टेस्ट(Skill Test):

कर्मचारी चयन आयोग स्टेनोग्राफर ग्रेड C और D परीक्षा आयोजित करता है, जो सरकारी कर्मचारी के रूप में आशुलिपि में करियर ग्रोथ की तलाश कर रहे उम्मीदवारों के बीच सबसे लोकप्रिय परीक्षा है। SSC स्टेनोग्राफर परीक्षा में स्किल टेस्ट क्वालीफाइंग होता है। इसमें आशुलिपिक परीक्षा के अभ्यर्थियों को शामिल होना अनिवार्य है।

स्टेनोग्राफर ग्रेड पोस्ट C के लिए उम्मीदवारों को अंग्रेजी या हिंदी में कुल 10 मिनट के लिए 100 w.p.m. की गति से और आशुलिपिक ग्रेड पोस्ट D के लिए 80w.p.m.की गति से एक श्रुतलेख(dictation) दिया जाएगा। उनके द्वारा लिखी गई बात को केवल कंप्यूटर पर लिखना होगा। प्रतिलेखन(transcription) का मूल्यांकन केवल इलेक्ट्रॉनिक रूप से किया जाएगा। प्रतिलेखन(transcription) समय इस प्रकार है: –

S. No. Post Name Language Of Skill Test Duration
1 Stenographer Grade ‘D’ English 50 min
2 Hindi 65 min
3 Stenographer Grade ‘C’ English 40 min
4 Hindi 55 min

नोट: जो उम्मीदवार हिंदी में स्टेनोग्राफी टेस्ट लेने का विकल्प चुनते हैं, उन्हें नियुक्ति के बाद अंग्रेजी स्टेनोग्राफी और इसके विपरीत(vice versa) सीखने की आवश्यकता होगी, जिसमें असफल होने पर संबंधित विभागों द्वारा उनकी परिवीक्षा की मंजूरी नहीं दी जा सकती है।

Why is the SSC CGL Tier 1 Cut Off so high this year?

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *