मंगल पांडे: एक महान स्वतंत्रता सेनानी

मंगल पांडे: मंगल पांडे, ब्रिटिश सेना में एक भारतीय सैनिक थे। यह व्यापक रूप से माना जाता है कि मंगल पांडे सिपाही विद्रोह के पीछे एक प्रमुख व्यक्ति थे। मंगल पांडे का जन्म 19 जुलाई, 1827 को हुआ था। मंगल पांडे ने सिपाही विद्रोह का नेतृत्व किया, जो अंततः 1857 के विद्रोह का कारण बना। सिपाही विद्रोह का प्रारंभिक कारण एनफील्ड P-53 राइफल में इस्तेमाल किए गए एक नए प्रकार के बुलेट कारतूस था। अंग्रेजों द्वारा राइफल में इस्तेमाल किए जाने वाले कारतूसों को पशु वसा विशेष रूप से गाय और सुअर से बनाये जाने की अफवाह थी। राइफल में गोलियां लोड करने के लिए, एक सैनिक को कारतूस बाईट करने पड़ते थे। जानवरों की चर्बी से बने कारतूसों के इस्तेमाल ने भारतीय सैनिकों को नाराज कर दिया और कंपनी के खिलाफ विद्रोह बढ़ गया क्योंकि इससे उनके धार्मिक विश्वास को चोट पहुंची। इससे मंगल पांडे को अंग्रेजों के खिलाफ विद्रोह करना पड़ा। आइए मंगल पांडे की जीवनी और अंग्रेजों के खिलाफ उनके संघर्षों पर एक नज़र डालते है।

एक नजर मंगल पांडे की जीवनी पर:

जन्म 19 जुलाई 1827
धर्म हिन्दू
जन्म का स्थान  नागवा, बलिया जिला, उत्तर प्रदेश, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
मृत्यु 8 अप्रैल 1857 (29 वर्ष की आयु), बैरकपुर, कलकत्ता, पश्चिम बंगाल, भारत
प्रसिद्धि विद्रोही/ भारतीय स्वतंत्रता सेनानी

मंगल पांडे का प्रारंभिक जीवन

मंगल पांडे का जन्म 19 जुलाई 1827 को ऊपरी बलिया जिले (अब उत्तर प्रदेश में) के एक गाँव नगवा में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था। मंगल पांडे के पिता दिवाकर पांडे एक किसान थे। मंगल पांडे 1849 में 22 वर्षीय युवा के रूप में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना में शामिल हुए। उन्हें 34 वीं बंगाल नेटिव इन्फैंट्री की 6 वीं कंपनी में एक सैनिक (सिपाही) के रूप में नियुक्त किया गया था। उसकी रेजिमेंट में कई अन्य ब्राह्मण युवक भी थे।

Remembering “Jhansi ki Rani” Laxmibai On her Death Anniversary

1857 का विद्रोह

1857 के विद्रोह के मुख्य कारणों में से एक ‘एनफील्ड’ राइफल की शुरुआत थी। बंदूक में लोड करने से पहले कारतूस को बाईट किया जाना था। भारतीय सिपाहियों का मानना था कि कारतूस को जानवरों की चर्बी (सुअर और गाय की चर्बी) से बनाया जाता था। यह हिंदू और मुस्लिम भावनाओं और धार्मिक विचारधाराओं के खिलाफ था। वे ‘एनफील्ड’ राइफल का उपयोग करने के लिए अनिच्छुक थे। मंगल पांडे एक कट्टर हिंदू ब्राह्मण थे। कारतूस में लार्ड के कथित इस्तेमाल से वह क्रोधित हो गया था। मंगल पांडे ने अंग्रेजों के खिलाफ हिंसक कार्रवाई करने का फैसला किया ताकि उन्हें अपनी अस्वीकृति दिखाई जा सके। यह 1857 के विद्रोह के मुख्य कारकों में से एक माना जाता था।

29 मार्च 1857 को, मंगल पांडे, परेड ग्राउंड के पास एक भरी हुई मस्कट के साथ रेजिमेंट के गार्ड रूम के सामने, अन्य भारतीय सैनिकों को अंग्रेजों के खिलाफ विद्रोह के लिए प्रेरित किया। कई अन्य लोगों ने मंगल पांडे का समर्थन किया और उनके साथ आयें। मंगल पांडे ने पहले यूरोपीय को मारने की योजना बनाई जिस पर उन्होंने अपनी नजरें जमाईं। 34 वीं बंगाल नेटिव इन्फैंट्री (BNI) के एडजुटेंट लेफ्टिनेंट बाऊ ने विद्रोही पुरुषों को तितर-बितर करने का प्रयास किया और सरपट घोड़े से आगे बढे। उसे अपनी ओर आता देख मंगल पांडे ने निशाना साधा और गोली चला दी। गोली अंग्रेज अधिकारी से चुक गयी और वह उसके घोड़े से जा टकरायी। वह नीचे उतारा। मंगल पांडे को गिरफ्तार किया गया और 18 अप्रैल को फांसी देने का आदेश दिया गया। हालांकि, अन्य सिपाहियों के विद्रोह की आशंका के चलते, ब्रिटिश अधिकारियों ने निर्धारित तारीख से दस दिन पहले 8 अप्रैल को उन्हें फांसी दे दी।

मंगल पांडे की विरासत

  • मंगल पांडे को ब्रिटिश शासन के खिलाफ स्वतंत्रता सेनानी के रूप में याद किया जाता है। इस कारण उनकी छवि के साथ एक डाक टिकट भारत सरकार द्वारा 1984 में जारी किया गया था।
  • जिस स्थान पर मंगल पांडे ने ब्रिटिश अधिकारियों पर गोलियां चलाईं और जहाँ उन्हें बाद में फांसी दी गई थी, उन्हें अब ‘शहीद मंगल पांडे महा उद्यान’ के नाम से जाना जाता है।
  • बॉलीवुड फिल्म, ‘Mangal Pandey – The Rising’ जो 2005 में रिलीज़ हुई थी, वह मंगल पांडे के जीवन और समय पर आधारित थी। उनकी जीवनी ‘The Roti Rebellion’ नामक एक मंचीय नाटक का भी विषय था।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. अंग्रेजों के खिलाफ मंगल पांडे के विद्रोह का कारण क्या था?
सिपाही विद्रोह का प्रारंभिक कारण एनफील्ड P-53 राइफल में इस्तेमाल किए गए एक नए प्रकार के बुलेट कारतूस था। जानवरों की चर्बी से बने कारतूसों के इस्तेमाल ने भारतीय सैनिकों को नाराज कर दिया और कंपनी के खिलाफ विद्रोह बढ़ गया क्योंकि इससे उनके धार्मिक विश्वास को चोट पहुंची। इससे मंगल पांडे को अंग्रेजों के खिलाफ विद्रोह करना पड़ा।

Q. मंगल पांडे जब ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना में भर्ती हुए, तब उनकी उम्र कितनी थी?
मंगल पांडे 1849 में 22 वर्षीय युवा के रूप में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी की सेना में शामिल हुए। उन्हें 34 वीं बंगाल नेटिव इन्फैंट्री की 6 वीं कंपनी में एक सैनिक (सिपाही) के रूप में नियुक्त किया गया था।

Q. मंगल पांडे की मृत्यु कब हुई?
मंगल पांडे को गिरफ्तार कर लिया गया और उन्हें 18 अप्रैल को फांसी देने का आदेश दिया गया। हालांकि, अन्य सिपाहियों के विद्रोह की आशंका के चलते, ब्रिटिश अधिकारियों ने उन्हें 8 अप्रैल को फांसी दे दी।

Click here to download Adda247 App

Download Upcoming Government Exam Calendar 2021

×

Download success!

Thanks for downloading the guide. For similar guides, free study material, quizzes, videos and job alerts you can download the Adda247 app from play store.

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×
Login
OR

Forgot Password?

×
Sign Up
OR
Forgot Password
Enter the email address associated with your account, and we'll email you an OTP to verify it's you.


Reset Password
Please enter the OTP sent to
/6


×
CHANGE PASSWORD