GA Notes : Buddha Path “The Living Heritage”

Dear Students,

General Awareness is an equally important section containing same weightage of 25 questions in SSC CGL, CHSL, MTS exams and has an even more abundant importance in some other exams conducted by SSC.There are questions asked related to Polity. So you should know important facts related to Indian Polity so that you can score well in General Awareness section.

To let you make the most of GA section, we are providing important facts related to GA. Also, General Awareness is a major part to be asked for various posts exams. We have covered important notes focusing on these prestigious exams. We wish you all the best of luck to come over the fear of General Awareness section

Buddha Path – The Living Heritage

बुद्ध पथ – जीवन की विरासत

The ‘Buddha Path’ also refers to the Eight Great Places of Buddhist Heritage, (referred in Pali as Aṭṭhamahāṭhānāni).
‘बुद्ध पथ’ बौद्ध विरासत के आठ महान स्थानों को भी संदर्भित करता है, (पाली में अष्टमहाथनानी के रूप में संदर्भित)।

These Eight Places are connected with the important events of the life of the Buddha from the time of his Birth, Enlightenment, Teaching Dhamma to suffering humanity, till he passed away, Mahāparinirvāna, at the age of 80 years.
इन आठ स्थानों में बुद्ध के जीवन की महत्वपूर्ण घटनाओं; उनके जन्म, प्रबुद्धता, शिक्षण धम्म से मानवता कष्ट, 80 वर्ष की आयु में उनके महापरिनिर्वाण तक से सम्बंधित है।

These Eight Great Places of Buddhist Heritage are:
बौद्ध विरासत के आठ महान स्थान हैं:
-Lumbini/ लुम्बिनी
-Bodhgaya/बोधगया
-Sarnath/सारनाथ
-Kushinagar/कुशीनगर
-Rajgir/राजगीर
-Shravasti/श्रावस्ती
-Sankashya/संकिशा
-Nalanda/नालंदा

After Buddha attained Nirvana these places came to be associated with the Path of Buddhism.
बुद्ध के निर्वाण प्राप्त करने के बाद इन स्थानों को बौद्ध धर्म के मार्ग से जोड़ा दिया गया।

This Buddha Path is the Living Heritage that still continues to inspire millions of people to walk and find out Peace, Happiness, Harmony and Solace.
यह बुद्ध पथ जीवन की विरासत है, जो आज भी लाखों लोगों को शांति, खुशी, सद्भाव और सांत्वना के पथ की खोज और उस पर चलने के लिए प्रेरित करता है।

1) Lumbini:/लुम्बिनी:
-Lumbini was the birthplace of the Buddha and is now located near the Nepal-India border north of Gorakpur.
-लुंबिनी बुद्ध का जन्मस्थान था और अब यह गोरकपुर के उत्तर में नेपाल-भारत सीमा के पास स्थित है।
-In the Buddha’s time, Lumbini was situated in east of Kapilavastu and southwest Devadaha of Shakya, an oligarchic republic.
-बुद्ध के समय में, लुंबिनी कपिलवस्तु के पूर्व और एक कुलीन गणराज्य शाक्य के दक्षिण पश्चिम देवदाहा में स्थित था।

2)Bodhgaya:/बोधगया:
-Bodh Gaya is a religious site and place of pilgrimage associated with the Mahabodhi Temple Complex in Gaya district in the Indian state of Bihar.
-बोध गया एक धार्मिक स्थल है और भारतीय राज्य बिहार के गया जिले में महाबोधि मंदिर परिसर से सम्बंधित तीर्थस्थल है।
-It is famous as it is the place where Gautama Buddha is said to have obtained Enlightenment (Pali: bodhi) under what became known as the Bodhi Tree.
-यह स्थान गौतम बुद्ध को बोधी वृक्ष नामक वृक्ष के नीचे ज्ञान (पाली: बोधी) प्राप्ति की मान्यता के कारण प्रसिद्ध है।
In 2002, Mahabodhi Temple, located in Bodh Gaya, became a UNESCO World Heritage Site.
-2002 में, बोध गया में स्थित महाबोधि मंदिर को यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल में शामिल किया गया।

3)Sarnath:/सारनाथ:
-Sarnath is a place located north-east of Varanasi near the confluence of the Ganges and the Varuna rivers in Uttar Pradesh, India.
-सारनाथ भारत के उत्तर प्रदेश में गंगा और वरुण नदियों के संगम के निकट वाराणसी के उत्तर-पूर्व में स्थित एक स्थान है।
The deer park in Sarnath is where Gautama Buddha first taught the Dhamma, and where the Buddhist Sangha came into existence through the enlightenment of Kondanna.
-सारनाथ में डियर पार्क वह स्थान है जहां गौतम बुद्ध ने पहली बार धम्म पढ़ाया था, और जहां बौद्ध संघ, कौयिन्या के ज्ञान के माध्यम से अस्तित्व में आया था।
-It was also the site of the Buddha’s Dhammacakkappavattana Sutta, which was his first teaching after attaining enlightenment, in which he taught the four noble truths and the teachings associated with it.
-यह बुद्ध के धम्मचक्कप्पवत्तनसुत्त का भी स्थान था, जो ज्ञान प्राप्ति के बाद उनका पहला शिक्षण था, जिसमें उन्होंने चार महान सत्य और इससे सम्बंधित शिक्षाण पढ़ाये।

4)Kushinagar:/कुशीनगर:
-Kushinagar is a pilgrimage town and a Notified Area Council in the Kushinagar district of the Indian state of Uttar Pradesh.
-कुशीनगर एक तीर्थ यात्रा शहर और भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के कुशीनगर जिले में एक अधिसूचित क्षेत्र परिषद है।
-It is an important Buddhist pilgrimage site, where Buddhists believe Gautama Buddha attained Parinirvana after his death.
-यह एक महत्वपूर्ण बौद्ध तीर्थ स्थल है, जहां बौद्धों का मानना है कि गौतम बुद्ध ने उनकी मृत्यु के बाद परिनिर्वाण प्राप्त किया था।

5) Rajgir:/राजगीर:
-Formerly known as Rajagaha, it was the capital of Magadha, ruled by King Bimbisara, one of the most prominent monarchs and supporters during the lifetime of the Buddha.
-पूर्व में राजगाहा के नाम से जाना जाता था, यह बुद्ध के जीवनकाल के दौरान सबसे प्रमुख राजाओं और समर्थकों में से एक राजा बिंबिसारा द्वारा शासित मगध की राजधानी थी।
-Rajgir is a city and a notified area in Nalanda district in the Indian state of Bihar.
-राजगीर एक शहर और भारतीय राज्य बिहार में नालंदा जिले में एक अधिसूचित क्षेत्र है।

6)Shravasti:/ श्रावस्ती:
-Shravasti was a city of ancient India and one of the six largest cities in India during Gautama Buddha’s lifetime.
-श्रावस्ती प्राचीन भारत का शहर था और गौतम बुद्ध के जीवनकाल के दौरान भारत के छह सबसे बड़े शहरों में से एक था।
Shravasti (Utter Pradesh) is located near the West Rapti River and is closely associated with the life of Gautama Buddha, who is believed to have spent 24 Chaturmases here.
-श्रावस्ती (उत्तर प्रदेश) पश्चिम राप्ती नदी के निकट स्थित है और गौतम बुद्ध के जीवन से निकटता से सम्बंधित है, यह माना जाता है कि यहां गौतम बुद्ध ने 24 चतुर्मास बिताए थे।
-Age-old stupas, majestic viharas and several temples near the village of “Sahet-Mahet” establish Buddha’s association with Shravasti.
-“साहेत-माहेत” गांव के निकट स्थितपुराने स्तूप, राजसी विहार और कई मंदिरश्रावस्ती के साथ बौद्धका संबंध स्थापित किया।

7)Sankashya:/संकिशा:
-Sankasya (also Sankassa) was an ancient city in India.
-संकिशा (सांकसा) भारत में एक प्राचीन शहर था।
-Sankassa is now identified with SankissaBasantapura on the north bank of the Ikkhumati river (Kalinadi) in Farrukhabad district of Uttar Pradesh state of India.
-संकिशा कोअब उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले में इक्षुमती नदी (कालीनदी) के उत्तर तट पर संकीसा बसंतपुरा के नाम से जाना जाता है।
-The city came into prominence at the time of Gautama Buddha. According to a Buddhist source, it was thirty leagues from Savatthi.
-शहर को गौतम बुद्ध के समय ख्याति प्राप्त हुई थी। बौद्ध स्रोत के अनुसार, यह श्रावस्ती से तीस लीग दूरथा।
King Ashoka built a stupa and a temple commemorating the visit of the Buddha.
-सम्राटअशोक ने बुद्ध की यात्रा केपुण्यस्मरणके लिए एक स्तूप और एक मंदिर का निर्माण किया।
-This temple exist even today and the ruins of the stupa are also present as a temple of Vishari Devi. It is said that the name Visahari Devi is given to the mother of the Buddha.
-यह मंदिर आज भी मौजूद है और स्तूप के खंडहर भी विषारी देवी के मंदिर के रूप में मौजूद हैं। ऐसा कहा जाता है कि बुद्ध की मां को विषारी देवी नाम दिया गया है।

8)Nalanda:/ नालंदा:
-Nalanda was a Mahavihara, a large Buddhist monastery, in the ancient kingdom of Magadha (modern-day Bihar) in India.
-नालंदा, भारत में मगध के प्राचीन साम्राज्य (आधुनिक- बिहार) में एक बड़ा बौद्ध मठ, महाविहार था।
In 2016 it became a UNESCO World Heritage Site.
-2016 में यह यूनेस्को काविश्व धरोहर स्थल बन गया।

                                 
                         
×

Download success!

Thanks for downloading the guide. For similar guides, free study material, quizzes, videos and job alerts you can download the Adda247 app from play store.

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×
Login
OR

Forgot Password?

×
Sign Up
OR
Forgot Password
Enter the email address associated with your account, and we'll email you an OTP to verify it's you.


Reset Password
Please enter the OTP sent to
/6


×
CHANGE PASSWORD