GA Notes : Important Pointers for Physics

Dear Students,

General Awareness is an equally important section containing same weightage of 25 questions in SSC CGL, CHSL, MTS exams and has an even more abundant importance in some other exams conducted by SSC.There are questions asked related to Polity. So you should know important facts related to Indian Polity so that you can score well in General Awareness section.

To let you make the most of GA section, we are providing important facts related to GA. Also, General Awareness is a major part to be asked for various posts exams. We have covered important notes focusing on these prestigious exams. We wish you all the best of luck to come over the fear of General Awareness section

Important Pointers for Physics

An object is said to be at rest if it does not change its position which respect to its surroundings with time and said to be in motion if it changes its position with respect to its surrounding with time.
किसी वस्तु को विराम की अवस्था में कहा जाता है यदि समय के साथ इसकी स्थिति में कोई परिवर्तन नहीं होता है और इसे गति में कहा जाता है यदि समय के साथ इसकी स्थिति में इसके परिवेश के सापेक्ष परिवर्तन होता है।

-The time rate of change of velocity of a body is called its acceleration.
समय के साथ किसी वस्तु के वेग में परिवर्तन की दर को त्वरण कहा जाता है।

-When a body is thrown from horizontal making an angle (θ) except 90°, then its motion under gravity is a curved parabolic path, called trajectory and its motion is called projectile motion.
जब किसी वस्तु को क्षैतिज तल से 90° के अतिरिक्त एक कोण (θ) बनाते हुए फेंका जाता है तो गुरुत्वाकर्षण के अधीन इसकी गति एक घुमावदार पैराबॉलिक पथ होता है, जिसे प्रक्षेपवक्र कहा जाता है और इसकी गति को प्रोजेक्टाइल गति कहा जाता है।

-During circular motion an acceleration acts on the body towards the centre, called centripetal acceleration. The direction of centripetal acceleration is always towards the centre of the circular path.
वृताकार गति के दौरान केंद्र की ओर वस्तु पर एक त्वरण कार्य करता है, जिसे केंद्राभिमुख त्वरण कहा जाता है। केंद्राभिमुख त्वरण की दिशा हमेशा वृताकार पथ के केंद्र की और होती है।

-During circular motion a force always acts on the body towards the centre of the circular path, called centripetal force.
वृताकार गति के दौरान, वस्तु पर हमेशा वृताकार पथ के केंद्र की ओर एक बल कार्य करता है, जिसे केंद्राभिमुख बल कहा जाता है।

-In circular motion we experience that a force is acting on us in opposite to the direction of centripetal force called centrifugal force. This is an apparent force or imaginary force and also called a pseudo force.
वृताकार गति में हम केंद्राभिमुख बल के विपरीत दिशा में एक  बल का अनुभव करते हैं जिसे केन्द्रापसारी बल कहा जाता है। यह एक आभासी बल या काल्पनिक बल है इसे सूडो बल भी कहा जाता है।

Newton’s First Law- A body continues in its state of rest or of uniform motion in a straight line unless an external force acts on it. It is based on law of inertia.
न्यूटन की गति का पहला नियम: कोई वस्तु अपने विराम की अवस्था में या एकसमान गति की अवस्था में बने रहना चाहती है जब तक की कोई बाहरी बल उसकी अवस्था में परिवर्तन न ला दे। यह जड़ता के नियम पर आधारित है।

Inertia is the property of a body by virtue of which is opposes any change in its state of rest or of uniform motion in a straight line.
जड़ता किसी वस्तु का वह गुण है जिसके कारण या अपने विराम की अवस्था या एक समान सरल रेखीय गति में किसी भी प्रकार के परिवर्तन का विरोध करती है।

-A passenger jumping out from a rapidly moving bus or train is advised to jump in forward direction and run forward for a short mile due to inertia of rest.
विराम की जड़ता के कारण किसी यात्री को चलती बस या ट्रेन  से कूदते समय सलाह दी जाती है कि आगे की दिशा में कूदे और कुछ दूरी तक बस या ट्रेन की दिशा में जाये।

Newton’s Second Law- The rate of change of momentum of a body is directly proportional to the force applied on it and change in momentum takes place in the direction of applied force.
न्यूटन की गति का दूसरा नियम: किसी वस्तु के संवेग परिवर्तन की दर इस पर आरोपित बल के सीधा समानुपाती होता है और संवेग में परिवर्तन आरोपित बल की दिशा में होता है

Newton’s Third Law- For every action, there is an equal and opposite reaction and both act on two interacting objects. Rocket is propelled by the principle of Newton’s third law of motion.  न्यूटन की गति का तीसरा नियम: प्रत्येक क्रिया के लिए बराबर और विपरीत प्रतिक्रिया होती है और दोनों इंटरैक्टिंग ऑब्जेक्ट्स पर कार्य करती हैं। रॉकेट को न्यूटन के गति के तीसरे नियम के सिद्धांत द्वारा प्रक्षेपित किया जाता है।
-An object is said to be moving with non-uniform or variable velocity if it undergoes unequal displacement in equal intervals of time.
किसी वस्तु को एक असमान गति या परिवर्तनशील गति की अवस्था में कहा जाता है, यदि समान समयांतराल में असमान दूरी तय करती है।

-An object is said to be moving with uniform velocity if it undergoes equal displacements in equal intervals of time.
किसी वस्तु को एकसमान गति की अवस्था में कहा जाता है यदि यह समान समयांतराल में समान दूरी तय करता है।

-Acceleration is a vector quantity and its SI unit is 𝑚𝑠−2.
त्वरण एक सदिश राशी है और इसका एसआई मात्रक मीटर/सेकंड-2 है।

-It an object travels equal distances in equal intervals of time, then it is said to be in uniform motion.
यदि कोई वस्तु समान समयांतराल में समान दूरी तय करती है, तो इसे एकसमान गति की अवस्था में कहा जाता है।

-For a body with zero acceleration or constant speed, graph between velocity and time will be a line parallel to time axis.
शून्य त्वरण या नियत वेग के साथ किसी वस्तु के लिए वेग एवं समय के बीच का ग्राफ समय के अक्ष के समानान्तर एक सीधी रेखा होगी।

Roads are banked at turns to provide required centripetal force for taking a turn.
घुमावदार सड़कों के मोड़ पर मुड़ने के लिए आवश्यक केंद्राभिमुख बल प्रदान करने के लिए सड़क के एक किनारे को ऊँचा कर दिया जाता है।

-For orbital motion of electrons around the nucleus electrostatic force of attraction is acting between the electrons and the nucleus as centripetal force.
नाभिक के चरों ओर इलेक्ट्रॉनों की कक्षीय गति के लिए इलेक्ट्रॉन और नाभिक के बीच इलेक्ट्रोस्टैटिक बल केंद्राभिमुख बल के रूप में कार्य करता है।

-A large force which acts on a body for a very short interval of time and produces a large change in its momentum is called an impulsive force.
 एक वृहत बल जो किसी वस्तु पर अल्प समय के लिए लगता है और इसके संवेग में भारी परिवर्तन लाता है, इसे आवेगकारी बल कहा जाता है।

The cause of friction is the strong atomic or molecular forces of attraction acting on the two surfaces at the point of actual contact.  घर्षण का कारण वास्तविक संपर्क के बिंदु पर दो सतहों के बीच लगने वाला आकर्षण की मजबूत परमाणु या आणविक बल है।

-The purpose of a ball bearing is to reduce rotational friction and to support loads (weight).
बल एवं बेरिंग का उद्देश्य चक्रीय घर्षण को कम करना और भार को सहारा देना है।

-Tyres are made of synthetic rubber because its coefficient or friction with road is larger and therefore, large force of friction acts on it, which stops sliding at turns.
टायर सिंथेटिक रबड़ से बने होते हैं क्योंकि सड़क के साथ घर्षण का गुणांक बड़ा होता है और इसलिए, इस पर घर्षण का बड़ा बल कार्य करता है, जो मोड़ पर फिसलने को रोकता है।

                                 
                         
×

Download success!

Thanks for downloading the guide. For similar guides, free study material, quizzes, videos and job alerts you can download the Adda247 app from play store.

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

×
Login
OR

Forgot Password?

×
Sign Up
OR
Forgot Password
Enter the email address associated with your account, and we'll email you an OTP to verify it's you.


Reset Password
Please enter the OTP sent to
/6


×
CHANGE PASSWORD