GA Notes :Notes on Parliament of India (Part-II)

Dear Readers,


General Awareness is an equally important section containing same weightage of 25 questions in SSC CGL, CHSL, MTS exams and has an even more abundant importance in some other exams conducted by SSC.There are questions asked related to Polity. So you should know important facts related to Indian Polity so that you can score well in General Awareness section.

To let you make the most of GA section, we are providing important facts related to Indian Polity. Also, Railway Exam is nearby with bunches of posts for the interested candidates in which General Awareness is a major part to be asked for various posts exams. We have covered important notes focusing on these prestigious exams. We wish you all the best of luck to come over the fear of General Awareness section

PARLIAMENT OF INDIA
संसद


•Parliament is the supreme legislative body of a country.
(संसद एक देश का सर्वोच्च विधायी निकाय है।)

Parliament comprises of:(Art.79)
(संसद को (अनुच्छेद 79) में शामिल किया गया है:)

a)The President/ राष्ट्रपति
b)Lok Sabha (House of the People)/ लोकसभा (हाउस ऑफ़ पीपल)
c)Rajya Sabha (Council of States)/ राज्यसभा (राज्य परिषद)

LOK SABHA
लोकसभा 

-Lok Sabha, as the name itself signifies, is the body of representatives of the people.
लोकसभा, जैसा कि इसका नाम स्वयं ही दर्शाता है, यह लोगों के प्रतिनिधियों का निकाय है।

-It is the Lower House of Parliament.
यह संसद का निचला सदन है।

-Members of the Lok Sabha are elected by adult universal suffrage and a first-past-the-post system to represent their respective constituencies.
लोकसभा के सदस्य वयस्क सार्वभौमिक मताधिकार और फर्स्ट पास्ट द पोस्ट चुनाव प्रक्रिया के तहत अपने संबंधित निर्वाचन क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करने के लिए चुने जाते हैं।

-They hold their seats for five years or until the body is dissolved by the President on the advice of the council of ministers.
वे पांच साल तक या मंत्री परिषद की सलाह पर राष्ट्रपति द्वारा या सदन को भंग नहीं करने तक अपने पद पर बने रहते हैं।

-The maximum strength of the House envisaged by the Constitution is 552.
 संविधान द्वारा सदन की अनुमानित अधिकतम क्षमता 552 है।

-Which is made up by election of upto 530 members to represent the States, upto 20 members to represent the Union Territories. -
 जिन्हें राज्यों का प्रतिनिधित्व करने के लिए 530 सदस्यों और 20 सदस्यों तक केंद्र शासित प्रदेशों का प्रतिनिधित्व करने के लिए चुनाव द्वारा बनाए जाते हैं।

-Two members of the Anglo-Indian Community to be nominated by the Hon'ble President, if,  in his/her opinion, that community is not adequately represented in the House.
सदन में पर्याप्त प्रतिनिधित्व न होने की स्थिति में एंग्लो-इंडियन कम्युनिटी के दो सदस्यों को माननीय राष्ट्रपति द्वारा मनोनीत किया जाता है।

Note/नोट:
-An exercise to redraw Lok Sabha constituencies' boundaries is carried out by the Boundary Delimitation Commission of India every decade based on the Indian census, last of which was conducted in 2001. 
लोकसभा निर्वाचन क्षेत्रों की सीमाओं को पुन: निर्मित करने के लिए प्रत्येक दस वर्षों में भारतीय जनगणना के आधार पर भारतीय परिसीमन आयोग द्वारा कार्यान्वित किया जाता है, जो अंतिम 2001 में आयोजित की गयी थी।

-In India, such Delimitation Commissions have been constituted 4 times – in 1952 under the Delimitation Commission Act, 1952, in 1963 under Delimitation Commission Act, 1962, in 1973 under Delimitation Act, 1972 and in 2002 under Delimitation Act, 2002.
भारत में,  परिसीमन आयोग को चार बार गठित किया गया है- 1952 में, परिसीमन आयोग अधिनियम, 1952 के तहत;  1963 में, परिसीमन आयोगअधिनियम, 1962 के तहत ; 1 9 73 में , परिसीमन अधिनियम, 1972 के तहत ; और 2002 में, परिसीमन अधिनियम 2002 के तहत।


-The Lok Sabha was duly constituted for the first time on 17 April 1952 after the first General Elections held from 25 October 1951 to 21 February 1952.
पहले आम चुनावों के बाद 17 अप्रैल 1 9 52 को पहली लोकसभा का गठन 25 अक्टूबर 1 9 51 से 21 फरवरी 1 9 52 तक किया गया था।

-The 16th Lok Sabha was elected in May 2014 and is the latest to date.
16 वीं लोकसभा मई 2014 में शुरू हुई और यह अब तक की नवीनतम लोकसभा है।

Note/नोट:
-Constitution 61st Amendment Act (1987) has reduced the Age of voting from 21 to 18 years.
61 वें संशोधन अधिनियम (1 9 87) ने मतदान की आयु 21 से घटाकर 18 साल तक कर दी है।


Qualifications for Lok Sabaha:(Art.-84)
लोकसभा के लिए योग्यताएं (अनुच्छेद- 84)

-He / She should be a citizen of India, and must subscribe before the Election Commission of India an oath or affirmation according to the form set out for the purpose in the Third Schedule of Indian Constitution.
 वह भारत का नागरिक होना चाहिए, और उसे भारत के चुनाव आयोग के समक्ष भारतीय संविधान की तीसरी अनुसूची में इस उद्देश्य के लिए निर्धारित पत्र के अनुसार शपथ या पुष्टि करनी चाहिए।

-He / She should not be less than 25 years of age.
उसकी आयु 25 वर्ष से कम नहीं होनी चाहिए।

-He / She possesses such other qualifications as may be prescribed in that behalf by or under any law made by Parliament.
वह उस संसद द्वारा बनाई गई किसी भी विधि के तहत या उसके तहत निर्धारित की गई अन्य योग्यताएं रखता हो।

-He / She should not be proclaimed criminal i.e. they should not be a convict, a confirmed debtor or otherwise disqualified by law; and
 वह आपराधिक घोषित नहीं होना चाहिए, अर्थात वह दोषी नहीं होना चाहिए,  वह दिवालिया नहीं होना चाहिए अन्यथा विधि के तहत उसे अयोग्य घोषित नहीं होना चाहिए; तथा

-He / She should have his/her name in the electoral rolls in any part of the country.
 वह देश के किसी भी हिस्से में मतदाता सूची में शामिल होना चाहिए।


Speaker and Deputy Speaker:(Art.-93)
अध्यक्ष और उपाध्यक्ष: (अनु.-93)

- In the Lok Sabha, both presiding officers—the Speaker and the Deputy Speaker- are elected from among its members by a simple majority of members present and voting in the House.
 लोकसभा में, दोनों अध्यक्ष - अध्यक्ष और उप सभापति- सदन में उपस्थित और मतदान करने वाले सदस्यों के साधारण बहुमत से अपने सदस्यों में से चुने जाते हैं।

Note/नोट:
-Shri G. V. Mavalankar was the first Speaker of Lok Sabha (15 May 1952– 27 February 1956)
श्री जी वी मावलंकर लोकसभा के पहले अध्यक्ष थे (15 मई 1952 - 27फरवरी 1956)
-Shri M. Ananthasayanam Ayyangar was the first Deputy Speaker (30 May 1952 – 7 March 1956).
श्री एम. अनंतसयानम अयंगर पहले उप सभापति थे (30 मई 1952 - 7 मार्च 1956)।
 -Sumitra Mahajan was elected as the speaker in the 16th Lok Sabha, and is its second woman speaker and 
सुमित्रा महाजन 16वीं लोकसभा में स्पीकर के रूप में चुनी गयीं थीं, और यह दूसरी महिला अध्यक्ष बनीं और,
-Shri M. Thambidurai as the deputy speaker.
-श्री एम. थंबिदुराई उपाध्यक्ष के रूप में चुनीं गयीं।


Powers of Lok Sabha:
लोकसभा की शक्तियाँ:

-Motions of no confidence against the government can be introduced and passed in the Lok Sabha.
सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया जा सकता है और लोकसभा में पारित किया जा सकता है

-Money bills can only be introduced in the Lok Sabha, and upon being passed, are sent to the Rajya Sabha, where it can be deliberated on for up to 14 days.
धन विधेयक केवल लोकसभा में पेश किया जा सकता है और पारित होने पर, राज्य सभा को भेजा जाता है, जहां इस पर 14 दिनों तक विचार-विमर्श किया जा सकता है।


Sessions:
सत्र:

Three sessions of Lok Sabha take place in a year:
वर्ष में लोकसभा के तीन सत्र बुलाए जाते हैं:

-Budget session: February to May.
 बजट सत्र: फरवरी से मई।
-Monsoon session: July to September.
मानसून सत्र: जुलाई से सितंबर।
-Winter session: November to mid December.
शीतकालीन सत्र: नवंबर से मध्य दिसंबर तक।


Question Hour:
प्रश्न काल: 
-The first hour of every sitting is called Question Hour.
प्रत्येक बैठक का पहला घंटा प्रश्न काल कहलाता है


Zero Hour:
शून्य काल: 
-The time immediately following the Question Hour has come to be known as "Zero Hour".
प्रश्न काल के ठीक बाद वाला घंटा ‘शून्य काल’ है
-It starts at around 12 noon and members can, with prior notice to the Speaker, raise issues of importance during this time.
 यह दोपहर 12 बजे आरम्भ होता है और इस समय के दौरान सदस्य अध्यक्ष को पूर्व नोटिस देकर महत्वपूर्ण मुद्दों को उठा सकते हैं


Parliamentary Committees:
 संसदीय समितियां: 

There are primarily two kinds of parliamentary committees based on their nature –
मुख्य रूप से प्रकृति के आधार पर दो प्रकार की संसदीय समितियां होती हैं -
-Parliament Standing Committees (PSC) – Permanent in nature, reconstituted time to time with every new election.
संसदीय स्थायी समितियां (पीएससी) - प्रकृति में स्थायी, प्रत्येक नए चुनाव के साथ समय-समय पर पुनर्निर्मित।
-Ad hoc Committees – Created for specific purpose and ceases to exist when that purpose is achieved.
तदर्थ समितियां - विशिष्ट उद्देश्य के लिए गठित और उस उद्देश्य को हासिल करने के बाद इन्हें समाप्त कर दिया जाता है।










                                                   

No comments