SSC MTS Tier 2 Essay Writing for Descriptive exam in Hindi


SSC MTS Descriptive Paper TIER 2

प्रिय विद्यार्थियों,
सरकार की परीक्षाओं को उत्तीर्ण करने के लिए हमें आयोग द्वारा आयोजित कराये जा रहे सभी टियर के लिए तैयार रहना होगा. SSC MTS टियर 1 और  SSC CGL टियर 1 समाप्त हो चुके हैं और सभी अब टियर 2 और टियर 3 के प्रतीक्षा में हैं. संक्षेप में, वर्णात्मक परीक्षा की तैयार शुरू कर दें जिसमें निबंध, पत्र या संक्षेपण लेखन होगा.वर्णनात्मक परीक्षा के महत्व को ध्यान में रखते हुए, हम उम्मीदवारों को निबंध प्रदान कर रहे हैं ताकि उन्हें शब्दों के उचित उपयोग और एक महत्वपूर्ण विषय पर लेखन के बारे में पता लग सके.जिन लोगों को उचित मार्गदर्शन की ज़रूरत है और जो यह अवसर को खोना नहीं चाहते जिसका वह लम्बे समय से इंतजार कर रहे थे और वे इसके लिए समर्पित हैं वे यह लेख ध्यानपूर्वक पढ़ें. अड्डा 247 की ओर से सभी उम्मीदवारों को बहुत-बहुत शुभकामनाएं!!!

निबंध

7वां वेतन आयोग


वेतन आयोग की स्थापना भारत सरकार द्वारा सविराम की जाती है और यह अपने  कर्मचारियों की वेतन संरचना में परिवर्तन के बारे में अपनी सिफारिशें प्रस्तुत करती है. भारत की आजादी के बाद से, सातवें वेतन आयोग की स्थापना नियमित रूप से समीक्षा करने और भारत सरकार के सभी सिविल और सैन्य विभाजन के काम और वेतनमान संरचना पर सिफारिश करती है. ये सिफारिशें देश में आर्थिक स्थितियों को ध्यान में रखते हुए की जाती हैं. आयोग प्रत्येक 10 सालों में एक बार केंद्रीय सरकारी कर्मचारियों के लिए वेतन, भत्ते और अन्य लाभों की समीक्षा करने के लिए गठित किया जाता है, जो पिछली सरकार द्वारा 28 फरवरी 2014 को नियत किया गया था और उसे 18 महीने में अपनी रिपोर्ट सौंपने को कहा गया था.

25 सितंबर 2013 को पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने घोषणा की कि पूर्व प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह ने 7 वें वेतन आयोग के संविधान को मंजूरी दी थी, जो 1 जनवरी, 2016 से लागू हुई थी. जस्टिस ए के माथुर को सातवें वेतन आयोग का नेतृत्व करना था, जिसकी घोषणा 4 फरवरी, 2014 को हुई थी. 7वें वेतन आयोग की सिफारिशों के पूर्ण रूप से लागू होने पर लगभग एक करोड़ केंद्रीय सरकार के कर्मचारियों और पेंशनभोगियों की औसत आय में 23.5 रुपए की वृद्धि होगी. हाथ में जितना अधिक पैसा होगा वह उतना ही टिकाऊ वस्तुओं के लिए उच्च उपभोक्ता मांग के बढ़ने की उम्मीद होगी, जिससे औद्योगिक क्षेत्र को प्रोत्साहन मिलेगा और अधिक नौकरियों का सृजन होगा.

ऑटोमोबाइल क्षेत्र और कंपनियों को एक अच्छा प्रोत्साहन मिलेगा और उनपर निर्भर रहने वाले सरकार के राजस्व में वृद्धि लायेंगे. अधिक धन का अर्थ बचत में वृद्धि भी है, जो देश की मध्यवर्गीय अर्थव्यवस्था की सबसे बड़ी ताकत रही है.

कमीशन ने न्यूनतम वेतन वृद्धि को 7,000 रुपये से बढ़ाकर 18,000 रुपये करने की सिफारिश की थी, साथ ही अधिकतम 80,000 रुपये से बढ़ाकर 2.5 लाख रुपये और साथ ही वेतन निर्धारण के, निर्धारण कारक को समान रूप से बुनियादी वेतन का 2.57 बार  स्वीकृत किया गया था. इन सिफारिशों को केंद्रीय कैबिनेट ने मंजूरी दे दी थी. सरकार ने भत्ते में वृद्धि की मंजूरी इस जुलाई के पहले ही दे दी थी. 

उच्च खपत और मांग से देश में विभिन्न क्षेत्रों में विशेषकर मैन्युफैक्चरिंग और नौकरियां पैदा हो सकती हैं. स्पष्ट रूप से 7वें वेतन आयोग पर सबसे मजबूत प्रभाव भारतीय अर्थव्यवस्था में कुल मांग पर होगा.

वेतन आयोग अपने पक्ष विपक्ष दोनों के साथ आता है. कुछ फायदों जिसमें मांग में वृद्धि होना शामिल है- जब 1 करोड़ से ज्यादा सरकारी कर्मचारी और पेंशनभोगी वेतन और पेंशन में 23 की वृद्धि से प्राप्त करेंगे तो  इससे अर्थव्यवस्था में समग्र मांग परिदृश्य को बढ़ावा मिलेगा, जिससे अधिक खर्च आएगा, जिससे वैश्विक बाजार में गड़बड़ी के बीच देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) से उद्धारकर्ता को फायदा होगा-  सातवां वेतन आयोग ने ब्रिटेन के फैसले से यूरोपीय संघ को छोड़ने के लिए मुद्दों के बावजूद बाजार को बहुत जरूरी राहत प्रदान की है, जबकि इसमें कुछ खामियां भी शामिल हैं: 

(i) वित्त वर्ष 2016-17 के बजट में 7वें वेतन आयोग के कार्यान्वयन के लिए कोई स्पष्ट प्रावधान नहीं दिया गया था, सरकार की किटी (पूँजी) पर 1.02 लाख करोड़ रुपये या जीडी का लगभग 0.7 प्रतिशत का अतिरिक्त बोझ पड़ सकता है, जो चालू वित्तीय वर्ष के लिए अपने राजकोषीय घाटे के लक्ष्य को पूरा करने के लिए सरकार को परेशानी में डाल सकती है

(ii) मुद्रास्फीति जोखिम:– भारतीय रिजर्व बैंक ने बार-बार टिप्पणी की है कि यह 7 वें वेतन आयोग के विरुद्ध मुद्रास्फीति पर उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीजे) पर विपरीत जोखिम के रूप में दिखाई देता है.  


हालांकि, लगभग 48 लाख केंद्र सरकार और 52 लाख पेंशनभोगी इस धारणा के तहत हैं कि नए वेतन संशोधन प्रणाली का कार्यान्वयन एक मात्र व्याकुलता जिसकी ओट सरकार ले रही है और 7 वीं वेतन की सिफारिश के तहत निर्णय लेने की अपनी असमर्थता को छिपा रही है. 


You may also like to read:






   




Print Friendly and PDF

No comments